दाल मिल के आड़ में नकली सेनेटाइजर बनाने पर खाद्य विभाग ने की थी छापेमारी

रायपुर। दाल मिल के आड़ में प्रदेश की जनता के जीवन के साथ नकली सेनेटाइजर बनाकर और उसे मार्किट में धड्ड्ले से बेचकर जनता के जान के साथ खिलवाड़ किया गया। ऐसे कंपनी के खिलाफ शासन को कड़ी कार्यवाई करनी चाहिए। ये मांग गौ सेना संगठन ने शासन से की है। दलदल सिवनी क्षेत्र के एच. के. दाल मिल में पिछले दिनों खाद्य औषधि विभाग द्वारा छापा मार कार्यवाई की गई थी। जिसमे भारी मात्रा में लगभग 3400 लीटर नकली सेनेटाइजर जब्त किया गया था। नकली सेनेटाइजर जब्त करने के बाद भी जिस दाल मिल के आड़ में सेनेटाइजर का गोरख धंधा चल रहा था, उस दाल मिल को सील नहीं किया गया था।

इस संबंध में गौ सेना संगठन के प्रदेश अध्यक्ष रवि वर्मा के नेतृत्त्व में गुरुवार को कलेक्टर के नाम डिप्टी कलेक्टर को ज्ञापन सौपा गया। ज्ञापन में गौ सेना संगठन ने मांग की है कि जिस दाल मिल को सामने रखकर उसकी आड़ में नकली सेनेटाइजर बनाने का खेल एच के दाल मिल के संचालक के द्वारा किया गया। शासन के द्वारा उस दाल मिल पर कार्यवाई नहीं की गई और न ही उसे सील किया गया।

अधिक पढ़ें

गौ सेना संगठन के प्रदेश अध्यक्ष वर्मा ने ये भी कहा की दाल मिल के आड़ में हो रहे अवैध कार्यो को लेकर संगठन ने पहले ही पुलिस विभाग में पत्र देकर वहां से दाल मिल हटाने और निगम सीमा छेत्र में स्थापित दाल मिल को हटाने की मांग पूर्व में की थी, पर वहां तो नकली सेनेटाइजर का गोरखधंधा चल रहा था। वही नकली सेनेटाइजर की पैकिंग करने के लिए सचदेव वैज्ञानिक उपकरण प्राइवेट लिमिटेड सारागांव से बोतल मंगाया जा रहा था, जिसमे नकली सेनेटाइजर को पैकिंग कर खपाया जाता रहा है।

मीलों को हटाने की भी रखी मांग
ज्ञापन में गौ सेना संगठन ने शासन से मांग की है कि दलदल सिवनी छेत्र नगर निगम सीमा क्षेत्र में है और उस क्षेत्र में लोगो का आना जाना लगा रहता है। ऐसे स्थान पर दाल मिल और नकली सेनेटाइजर बनाने की वजह से बड़ी बड़ी गाड़ियों का आना जाना लगा रहता है। वही पास में एक और दाल मिल है जहां बड़ी गाड़ियों का आना जाना लगातार लगा रहता है। इससे कभी भी क्षेत्र में बड़ी दुर्गटना हो सकती है, लिहाज़ा इस खतरे को भाप कर इन मिलों को यहाँ से स्थानांतरित करने की मांग भी की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here