भारत में ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन की मैन्युफैक्चरिंग सीरम इंस्टीट्यूट कर रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 28 नवंबर को इंस्टीट्यूट का दौरा किया था।

Wednesday : December 23 2020

नई दिल्ली |

कोरोना वैक्सीन पर जल्द अच्छी खबर मिलने की उम्मीद है। ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन कोवीशील्ड के भारत में इमरजेंसी यूज के लिए अगले हफ्ते मंजूरी मिल सकती है। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के सूत्रों के मुताबिक सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) से कुछ और डेटा मांगे थे, जो कंपनी ने प्रोवाइड करवा दिए हैं। भारत में ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन की मैन्युफैक्चरिंग SII कर रहा है।

फाइजर, भारत बायोटेक की वैक्सीन को भी जल्द मंजूरी के आसार
ब्रिटिश कंपनी एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन को मंजूरी देने वाला भारत पहला देश बन सकता है। ब्रिटेन में अभी इसके ट्रायल के डेटा की जांच ही चल रही है। वैक्सीन बनाने में भारत दुनिया का सबसे बड़ा देश है। सरकार चाहती है कि जनवरी से देश के लोगों को कोरोना वैक्सीन लगना शुरू हो जाए। इससे लिए फाइजर और भारत बायोटेक की वैक्सीन के इमरजेंसी यूज की मंजूरी भी जल्द दी जा सकती है।

राहुल का मोदी से सवाल- भारत के लोगों को वैक्सीन कब मिलेगी?
देश में कोरोना वैक्सीन की तैयारियां आखिरी फेज में हैं। इस बीच कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल किया है। राहुल ने बुधवार को सोशल मीडिया पर लिखा, ‘दुनिया में 23 लाख लोगों को वैक्सीन लग चुकी है। चीन, अमेरिका और रूस में वैक्सीनेशन शुरू हो गया है। भारत का नंबर कब आएगा, मोदी जी?

मोदी ने कहा था- कुछ हफ्तों में वैक्सीन तैयार हो जाएगी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 4 दिसंबर को कोरोना पर ऑल पार्टी मीटिंग बुलाई थी। बैठक के बाद उन्होंने कहा कि कुछ हफ्तों में कोरोना वैक्सीन तैयार हो जाएगी, पहला टीका बीमार बुजुर्गों और हेल्थ वर्कर्स को लगाया जाएगा। इससे पहले 28 नवंबर को मोदी ने सीरम इंस्टीट्यूट समेत उन तीनों कंपनियों की फैसिलिटी का दौरा भी किया, जो देश में वैक्सीन बना रही हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here