कोरोना संकट ने कीनिया में एक महिला को इतना ग़रीब बना दिया था कि उन्हें अपने बच्चों को बहलाने लिए पत्थर पकाने का नाटक करना पड़ रहा था.

आठ बच्चों की इस माँ का नाम पेनिना बहाती कित्साओ है. पेनिना निरक्षर और विधवा हैं. वो लोगों के कपड़े धोकर अपना और अपने बच्चों का पेट पालती थीं लेकिन कोरोना संक्रमण फैलने के बाद उनका काम ठप हो गया.

पेनिना के लिए ग़रीबी और मुश्किलें इतनी बढ़ गईं कि उन्हें अपने बच्चों को खिलाने के लिए खाना नहीं था. इसलिए उन्होंने अपने बच्चों को बहलाने के लिए पत्थर उबालना शुरू कर दिया. पेनिना ने सोचा कि उन्हें कुछ पकाते देख बच्चे खाने के इंतज़ार में सो जाएंगे.

उनकी एक पड़ोसन प्रिस्का मोमानी ने इस पूरे वाक़ये का वीडियो बना लिया और मीडिया को इस बारे में बता दिया.

प्रिस्का उनके बच्चों के रोने की आवाज़ सुनकर वहां ये देखने पहुंची थी कि उन्हें कोई परेशानी तो नहीं है.बर्तन में रखे पत्थर

पूरे कीनिया से मिली मदद

पेनिना की कहानी सुनकर लोगों ने उनके लिए पैसे इकट्ठा किए और उन्हें पूरे कीनिया से फ़ोन आने लगे. उन्होंने कीनिया के एनटीवी को दिए इंटरव्यू में बताया कि लोगों ने उन्हें मोबाइल ऐप के ज़रिए पैसे भेजे. एक पड़ोसी ने उनका बैंक अकाउंट खुलवाया जिससे उन्हें पैसे मिले.

कीनिया के रेडक्रॉस ने भी उनकी काफ़ी मदद की है. पेनिना कहती हैं कि उन्हें अंदाज़ा नहीं था कि कीनिया के लोग इतने दरियादिल हैं. वो इन सबको ‘एक चमत्कार’ मानती हैं.

उन्होंने कीनिया की टुको न्यूज़ वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में कहा, “मेरे बच्चों को पता चल गया था कि मैं पत्थर पकाने का नाटक करके उन्हें बहलाने की कोशिश कर रही हूं. लेकिन मेरे पास कोई और विकल्प नहीं था.”

पेनिना कीनिया के मोम्बासा शहर में दो कमरों के मकान में रहती हैं. उनके घर में न तो बिजली आती है और न ही पानी.

कीनिया में कोरोना संक्रमण के 395 मामले सामने आए हैं और 19 लोगों की मौत हो चुकी है.

अफ़्रीका में क्या हो रहा है?

अफ़्रीका सेंटर फ़ॉर डिज़ीज (सीडीसी) कंट्रोल कोविड-19 के इलाज के लिए कुछ दवाओं और वैक्सीन का ट्रायल शुरू किया है. अफ़्रीका महाद्वीप के 52 देशों में कोरोना संक्रमण के मामले सामने आए हैं और 37 हज़ार से ज़्यादा मरीज़ों का इलाज चल रहा है.

अफ़्रीका सीडीसी का कहना है कि बाकी दुनिया के मुकाबले महाद्वीप में संक्रमण कम है. हालांकि कई अफ़्रीकी देशों में कोविड-19 के इलाज के लिए दवाइयों और वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है.

ज़ाम्बिया में एंटी-मलेरिया ड्रग हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन का ट्रायल चल रहा है.दक्षिण अफ़्रीका विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ मिलकर इबोला की एंटी-वायरल ड्रग रेमडेसिविर और क्लोरोक्विन का ट्रायल कर रहा है. नाइजीरिया में भी एक दवा का ट्रायल हो रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here